Sunday, 14 September 2014

हिंदी दिवस पर ---------

















१-पंख फैलाए बांह पसार 
हिंदी पहुंची जन -जन द्वार 
२-अभिव्यक्ति को सरस बनाए 
सामर्थ्य की झलक दिखाए .
३-मान राष्ट्र भाषा का पाया 
हर दिल में स्थान बनाया 
४-लम्बी है अभी बहुत लड़ाई
साथ जुड़े जन ताकत आई
५-माँ समझे हर हिंदी भाषी
हिंदी है इतनी अभिलाषी
६-दुनिया भर में बनी है हिंदी भारत की पहचान
हम सबका कर्तव्य बना अब दिलाये इसको मान ...........

दुनिया भर के सभी हिंदी भाषियों को शुभकामनाएं ..................:))))

9 comments:

  1. Replies
    1. धन्यवाद महेंद्र जी ::)

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (15-09-2014) को "हिंदी दिवस : ऊंचे लोग ऊंची पसंद" (चर्चा मंच 1737) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हिन्दी दिवस की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार शास्त्री जी :)
      रचना को शामिल करने हेतु

      Delete
    2. आपको हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

      Delete
  3. Replies
    1. धन्यवाद आशीष जी :)

      Delete
  4. सार्थकता स्पष्ट है
    बेहतरीन कविता :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय जी हार्दिक आभार :)

      Delete

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .................
प्रतीक्षा है आपके अमूल्य विचारों की .
कृपया अपनी प्रतिक्रया अवश्य लिखिए