Thursday, 13 June 2013

बरखा रानी करे निहाल ----------

1-बार -बार मेघा गरजाए 
धरा पुलक -पुलक हुई जाए 

2-अंधियारा छाया है दिन में 
 चमके बिजली दूर गगन में 

3-घुमड़ -घुमड़ कर मेघा आये 
पिहू पपीहा शोर मचाये 

४-पल-पल धरती दरक रही है 
बिन पानी के सिसक रही है 

५-गुनगुनाती मेघ मल्हार 
बरखा रानी खड़ी है द्वार 

६-झमझमाझम झम-झम , झम-झम 
भीग रहा है हर अंतर मन 

७-रिमझिम -रिमझिम बरस रहा है 
मन भी संग -संग भीग रहा है 

८-ताप सहे हो गए बेहाल 
बरखा रानी करे निहाल ....................

10 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद महेंद्र जी

      Delete
  2. गुनगुनाती मेघ मल्हार
    बरखा रानी खड़ी है द्वार ..
    अपने स्वागत के लिए खड़ी है ... खुशहाली ले के जो आती है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दिगंबर जी

      Delete
  3. Replies
    1. धन्यवाद प्रसन्न जी

      Delete
  4. बहुत प्यारी कविता

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद चैतन्य जी

      Delete
  5. Replies
    1. amitaag जी धन्यवाद

      Delete

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .................
प्रतीक्षा है आपके अमूल्य विचारों की .
कृपया अपनी प्रतिक्रया अवश्य लिखिए